protem speaker kya hota hai: तेलंगाना में नियुक्ति प्रक्रिया को लेकर विवाद है। अधिकार किसके पास है और इसमें शामिल नियमों को समझें।

Telangana Protem Speaker Controversy: हाल ही में पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनावों में कांग्रेस पार्टी ने तेलंगाना में निर्णायक जीत हासिल की। हालाँकि, तेलंगाना में कांग्रेस सरकार के गठन के साथ ही विवाद छिड़ गया है।

तेलंगाना विधानसभा में प्रोटेम स्पीकर के रूप में एआईएमआईएम विधायक अकबरुद्दीन ओवैसी की नियुक्ति ने एक नई बहस छेड़ दी है, जिसके चलते बीजेपी ने विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया है। इसके जवाब में बीजेपी विधायकों ने शपथ ग्रहण समारोह का बहिष्कार कर दिया।

कांग्रेस प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेत ने बीजेपी की कड़ी आलोचना करते हुए उन पर तेलंगाना में खेल खेलने और भ्रम पैदा करने का आरोप लगाया। श्रीनेत ने जोर देकर कहा कि बीजेपी की हरकतें उस बात की पुष्टि करती हैं जो कांग्रेस हमेशा से कहती रही है कि एआईएमआईएम बीजेपी की बी टीम है।

protem speaker kya hota hai: तेलंगाना में नियुक्ति प्रक्रिया को लेकर विवाद है। अधिकार किसके पास है और इसमें शामिल नियमों को समझें।

protem speaker kya hota hai

“protem” का तात्पर्य एक अस्थायी भूमिका से है। प्रोटेम स्पीकर को अस्थायी प्लेसहोल्डर के रूप में कार्य करते हुए सीमित अवधि के लिए विधानसभा में काम करने के लिए नियुक्त किया जाता है। यह नियुक्ति विधानसभा का स्थायी अध्यक्ष चुने जाने तक रहती है।

कांग्रेस प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेत ने क्या दिया बयान?

सुप्रिया श्रीनेत ने कहा कि अकबरुद्दीन औवेसी को प्रोटेम स्पीकर नियुक्त करने का फैसला तेलंगाना के राज्यपाल का है। किसी भी अनिश्चितता को दूर करने के लिए, उन्होंने सुझाव दिया कि भाजपा अपने द्वारा नियुक्त राज्यपाल डॉ. तमिलिसाई सुंदरराजन से परामर्श करे। श्रीनेत ने योग्यता, सिफारिशों और राज्यपाल की भूमिका सहित प्रोटेम स्पीकर के चयन की प्रक्रिया को समझाने की इच्छा भी व्यक्त की।

प्रोटेम स्पीकर के लिए चयन प्रक्रिया कैसे संचालित की जाती है?

प्रोटेम स्पीकर का चयन सदन के सबसे वरिष्ठ सदस्य के आधार पर किया जाता है। इस संदर्भ में, वरिष्ठता सदन में सदस्यता की अवधि से निर्धारित होती है, न कि सम्मानित सदस्य की उम्र से। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि, संवैधानिक परंपरा के अनुसार, प्रोटेम स्पीकर की नियुक्ति के लिए कोई विशिष्ट संवैधानिक या वैधानिक दिशानिर्देश नहीं हैं।

प्रोटेम स्पीकर की जिम्मेदारियां

  • सदन में नये सदस्यों को शपथ दिलाना।
  • विधानसभा अध्यक्ष का चुनाव कराना.
  • फ्लोर टेस्ट की कार्यवाही का प्रबंधन करना।
  • स्थायी अध्यक्ष चुने जाने तक सदन की गतिविधियों की निगरानी करना।

प्रोटेम स्पीकर की नियुक्ति में राज्यपाल की भागीदारी।

राज्यपाल विधानसभा के प्रोटेम स्पीकर की नियुक्ति करते हैं और यह नियुक्ति हर चुनाव के बाद होती है। अनुच्छेद 180(1) के अनुसार, राज्यपाल के पास प्रोटेम स्पीकर नियुक्त करने का विशेष अधिकार है। राज्यपाल यह निर्णय मंत्रिपरिषद की सलाह के आधार पर या स्वतंत्र रूप से अपने विवेक से कर सकता है।

ये भी पढ़ें :-

Article 370 verdict: फैसले का खुलासा: भारतीय इतिहास में एक परिवर्तनकारी क्षण

Apasari Jaiv Vikas kya hai: पढ़े पूरी जानकारी

Which is the biggest flower in the world? दुनिया का सबसे बड़ा फूल

Manish Kumar
Manish Kumar

नमस्कार दोस्तों, मैं मनीष कुमार Puredunia.com वेबसाइट का फाउंडर हूं। यहां मैं आपलोगो को नॉलेज से रिलेटेड जैसे की जनरल जरकारी, ट्रेंडिंड टॉपिक, कैरियर, सरकारी योजना, हाउ टू, इत्यादि का सही-सही जानकारी उपलब्ध करवाता हूं। अगर हमारे बारे में ओर कुछ जानना चाहते हैं तो About us page पर जाए। धन्यवाद!

Articles: 390

2 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *