600 साल पुराना मस्जिद क्यों गिराया गया?

नमस्कार दोस्तों, कल से एक मस्जिद काफी चर्चा में है कि आखिरकार क्यों गिराया गया। दिल्ली हाई कोर्ट ने DDA (Delhi Development Authority) को यह सवाल किया है।

WhatsApp Group Join Now
Instagram Group Follow Me
600 साल पुराना मस्जिद क्यों गिराया गया?

दिल्ली के महरौली ईलाके में एक 600 साल पुराना मस्जिद गिराया गया। जिसको लेकर दिल्ली वक़्फ बोर्ड हाई कोर्ट पहुँच गया है। Delhi Development Authority एक Saturaratory body है जो कि यूनियन Government के नीचे आती है। DDA सहरी परियोजन दिल्ली कैपिटल क्षेत्र में काम करती है।

DDA ने High Court में यह कहा है कि मस्जिद Illegal Encroachment के अधीन आता है इसीलिए उसे गिराया गया है। महरौली में एक संजय वन है जहाँ में Illegal encroachment से हटाया जा रहा है।

अभी फिलहाल मामला कोर्ट में है। दोनो पक्ष अपनी बात रख रहा है। अब हमलोंग मस्जिद के इतिहास को थोड़ा देख लेते हैं 1920 Archaeological Survey के अनुसार इस मस्जिद का 3000 monuments में नाम था।

यह मस्जिद 1853 में नवीनीकरण किया गया था। इसका निर्माण का कोर्ड सबूत नहीं है। कुछ लोग कहते है इसका निर्माण रजिया सुल्तान द्वारा किया गया था।

रजिया सुल्तान दिल्ली सल्तनत से थी। दिल्ली सल्तनत के समय ग्रेट स्टोन का इस्तेमाल होता था और मस्जिद में Grey स्टोन का इस्तेमाल किया गया था।

Grey स्टोन आरावली की पहाड़ियों से लाया जाता था। ज्यादातर ग्रेट स्टोन का उपयोग दिल्ली सल्तनत के समय किया जाता था। जैसा कि हमलोग जनते है मुगल काल के दौरान में काफी मस्जिद का तिर्माण किया गया था।

कई सारे जगहों पर मस्जिद का निर्माण कराया गया था। यहाँ कि हिरासत और मंदिर को तोड़ दिया गया था। फिलहाल यह मामला फोर्ट में है देखते हैं न्यायालय इस पर क्या फैसला लेती है।

ये भी पढ़ें:-

Budget 2024 मैं क्या है? पूरी जानकारी हिंदी में

निष्कर्ष

उम्मीद करता हूं कि आपको यहां तक समझ में आ गया होगा।आज की इस लेख में बस इतना ही आगे और जानने के लिए हमारे वेबसाइट से जुड़े क्योंकि यहां पर इसी तरह का knowledge दिया जाता है धन्यवाद!

Manish Kumar
Manish Kumar

नमस्कार दोस्तों, मैं मनीष कुमार Puredunia.com वेबसाइट का फाउंडर हूं। यहां मैं आपलोगो को नॉलेज से रिलेटेड जैसे की जनरल जरकारी, ट्रेंडिंड टॉपिक, कैरियर, सरकारी योजना, हाउ टू, इत्यादि का सही-सही जानकारी उपलब्ध करवाता हूं। अगर हमारे बारे में ओर कुछ जानना चाहते हैं तो About us page पर जाए। धन्यवाद!

Articles: 394

3 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *